Ms Dhoni Success Story in Hindi

Ms Dhoni Success Story in Hindi

Cricket Hits :

दुनिया भर में क्रिकेट बेहद ही दिलचस्प खेल है और भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज धोनी भारतीय क्रिकेट प्रेमियों की जान है। महेंद्र सिंह धोनी पिछले कई सालों से भारत के लोगों के पसंदीदा खिलाड़ियों में से एक है या यू कह लीजिए की वो लोगों के दिल और दिमाग में बसते है।

Ms Dhoni Success Story in Hindi :

महेंद्र सिंह धोनी ने अपने जीवन में उस मुकाम तक पहुँच के दिखाया है जिस मुकाम तक  पहुंचने के लिए लोग रात में सोकर सपने देखते है। धोनी ने इस मुकाम तक पूछने के लिए बहुत मेहनत की और आज इसी की बदौलत धोनी एक छोटे से शहर से निकल कर लोगों के दिलों तक पहुंच है। इसी के साथ क्रिकेट के दुनिया में माही ने जबरदस्त बल्लेबाजी और धमाके दार कप्तानी करके कई खिताब देश के नाम भी किए है।

महेंद्र सिंह धोनी बहुत ही साहसी और अनुभवी भी है यही वजह है की वो अपन संयम और काबिलियत के चलते बड़े बड़े आंकड़े भी आसानी से पा लेते है। और इसी काबिलियत की बदौलत उन्होंने भारतीय टीम को हारते हुए भी कई मैच जीता दिए है।

Ms Dhoni Early Life :

Ms Dhoni Success Story in Hindi
Ms Dhoni Style In Early Days

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म एक मध्यमवर्गी परिवार में रांची, झारखण्ड में 7 जुलाई 1981 को हुआ था। धोनी के पिता का नाम पान सिंह धोनी और उनकी माँ का नाम देवकी धोनी है। धोनी के एक बड़े भाई जिनका नाम नरेन्द्र सिंह धोनी और एक बहन जिनका नाम जयंती है। धोनी ने अपनी शुरुआती शिक्षा रांची के जवाहर विद्या मंदिर स्कूल से पूरी की। धोनी के पिता रांची में एक स्टील बनाने वाली कंपनी में काम करते थे।

महेंद्र सिंह धोनी ने शुरुआत  में स्कूल के दौरान बैडमिंटन और फुटबॉल में बहुत ही बेहतरीन प्रदर्शन किया और इन खेलों में जिला और क्लब स्तर पर चुने गए। महेंद्र सिंह  धोनी स्कूल में अपनी फुटबॉल टीम के गोलकीपर थे।धोनी को उनके फुटबॉल कोच के द्वारा एक क्रिकेट क्लब के लिए क्रिकेट खेलने के लिए भेजा गया था।

इस दौरान महेंद्र सिंह धोनी ने अपने विकेट कीपिंग से सबको प्रभावित किया और कमांडो क्रिकेट क्लब (1995-1998) में नियमित विकेटकीपर बन गए। क्लब क्रिकेट में उनके प्रदर्शन के आधार पर उन्हें 1997/98 सीजन के वीनू मांकड़ ट्रॉफी अंडर-16 चैम्पियनशिप के लिए चुना गया और उन्होंने बहुत ही अच्छा प्रदर्शन किया। आपको जानकर हैरानी होगी कि धोनी ने 10वीं क्लास के बाद क्रिकेट को सीरियस लिया। बता दें कि धोनी खड़गपुर रेलवे स्टेशन पर 2001 से 2003 तक ट्रैवलिंग टिकट एग्जामिनर (TTE) थे।

Ms Dhoni Domestic Carrier :

महेंद्र सिंह धोनी के लगातार शानदार प्रदर्शन के बाद उन्हें घरेलु  क्रिकेट में खेलने का मौका मिला जहां पर उन्होंने अपना पहला रणजी का मुकाबला 1999 में खेला इस मैच में वेवीआर की तरफ से खेलते हुए असम के खिलाफ पहले ही मैच में 68 रन की बेहतरीन पारी खेली इसमें सीरीज के मैचों में धोनी ने 5 मैचों में 286 रन बनाए इसके बाद ही महेंद्र सिंह धोनी ने अनेक घरेलू मैचों में हिस्सा लिया|

महेंद्र सिंह धोनी के रणजी ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन के बाद उनका सिलेक्शन ईस्ट जोन में चयन नहीं हो पाया| जिसके कारण महेंद्र सिंह धोनी को काफी निराशा हुई, जिसके वजह से उन्होंने कुछ समय के लिए क्रिकेट को छोड़ने का फैसला किया ,लेकिन बाद में उन्होंने 2001 में रेलवे विभाग में कार्य करना शुरू कर दिया ,लेकिन रेलवे टीटी का काम उनको पसंद नहीं आया, जिसके कारण उन्होंने यह काम मात्र 3 साल में छोड़कर वापस क्रिकेट में आ गए|

2004 में लगातार बेहतरीन प्रदर्शन के बाद महेंद्र सिंह धोनी का सिलेक्शन देवधर ट्रॉफी में हुआ इस सीरीज में महेंद्र सिंह धोनी ने बेहतरीन प्रदर्शन किया उन्होंने इसमें विकेटकीपर इन बल्लेबाजी करते हुए 4 मैचों में 244 रन का शानदार योगदान दिया जिससे यह टीम सीरीज जीतने में सफल हो गयी|

2004 में महेंद्र सिंह धोनी को इंडिया-ए टीम की तरफ से जिंबाब्वे के खिलाफ खेलने का मौका मिला जहां पर उनका प्रदर्शन बहुत बेहतरीन रहा|

पाकिस्तान A केन्या A भारत A के खिलाफ धोनी ने इस सीरीज में काफी अच्छा प्रदर्शन किया और पाकिस्तान के खिलाफ एक मैच में उन्होंने fifty की मदद से भारत को जीत दिलाई|

Ms Dhoni One-Day Carrier :

धोनी ने अपने One-Day क्रिकेट करियर की शुरुआत बांग्लादेश के खिलाफ 23 दिसंबर 2004 को की थी,लेकिन अपने पहले ही मुकाबले में  मात्र 0 रन ही बना पाए थे। जिसके बाद महेंद्र सिंह धोनी का चयन पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में हुआ जहां पर धोनी का प्रदर्शन शानदार रहा उन्होंने इस सीरीज में 148 रन बनाए और साथ ही दे विकेटकीपर बल्लेबाज सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बन गए।

धोनी ने अपने वनडे क्रिकेट कैरियर में बहुत सारे रिकॉर्ड बनाए हैं और उन्होंने कई विकेट कीपिंग भी शानदार की है साथ ही उनका सिक्स लगाकर मैच फिनिश करने का अंदाज भी लोगों को काफी पसंद है। एम एस धोनी ने वनडे क्रिकेट करियर में 350 मुकाबले खेले जहां पर उन्होंने बल्लेबाजी करते हुए 10773 रन बनाए उनका स्कोर 186 रन था जिनमें उन्होंने तक 10 शतक और 73 अर्धशतक लगाए है ।

Ms Dhoni Test Carrier :

महेंद्र सिंह धोनी का टेस्ट करियर बहुत ही शानदार रहा है । धोनी ने 90 टेस्ट मैच में 4876 रन बनाये है । धोनी ने अपने टेस्ट करियर में 6 शतक और 33 अर्धशतक लगाए है ,उनका स्ट्राइक रेट टेस्ट में 59.12 का है,उन्होंने अपने टेस्ट से सन्यास ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान बीच सीरीज मेरी ही अचानक ले लिए ।

Ms Dhoni T-20 Carrier :

दोस्तों ! कुछ और बताने से पहले आपको बता दे की प्रथम टी-20 वर्ल्ड कप के कप्तान धोनी ही थे और उनके कप्तानी में भारत पहला वर्ल्डकप जीत भी लिया । धोनी का टी-20 करियर भी बहुत ही शानदार रहा है । उन्होंने  98  मैच खेलकर रन 1617 बनाये है,126 के स्ट्राइक रेट से ,धोनी ने टी-20 में 52 छक्के और 116 चौके लगाए है ।

Ms Dhoni in Ipl :

Ms Dhoni Success Story in Hindi

धोनी आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स की तरफ से खेलते है ,वह चेन्नई के कप्तान भी है । उन्होंने आईपीएल में 234 मुकाबले खेलकर 4978 रन बनाये है ,उन्होंने इस दौरान 229 छक्के और 346 चौक्के लगाए है । महेंद्र सिंह धोनी आईपीएल के सबसे सफल कप्तानों में से एक है ,उनकी कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स 4 बार टाइटल जीत चुकी है ।

Records of Ms Dhoni :

धोनी के बहुत से रिकार्ड्स और उपलब्धियां हैं। 2007 में धोनी को प्रथम टी20 विश्वकप की कप्तानी सौंपी गई थी। धोनी के द्वारा स्थापित कुछ कीर्तिमान व उनकी उपलब्धियां –

  • आईसीसी की सभी तीन ट्रॉफी जीतने वाले एकमात्र कप्तान – महेंद्र सिंह धोनी ने अपनी कप्तानी में भारत को वनडे विश्व कप (2011), वर्ल्ड टी20 (2007) और चैंपियंस ट्रॉफी (2013) में जीत दिलाई।

  • सबसे ज्यादा इंटरनेशनल मैच में कप्तानी का रिकॉर्ड – 332,भारत की ओर से सबसे ज्यादा टेस्ट (60), वनडे (200) और टी-20 (72) में कप्तानी का रिकॉर्ड, साथ ही भारत की तरफ से सबसे ज्यादा टेस्ट (27), वनडे (110) और टी-20 अंतरराष्ट्रीय (41) जीतने वाले कप्तान।

  • वनडे में किसी भी विकेटकीपर बल्लेबाज के सर्वाधिक स्कोर का वर्ल्ड रिकॉर्ड – 183* vs श्रीलंका, जयपुर, 2005.

  • टी-20 अंतरराष्ट्रीय में विकेटकीपर के सबसे ज्यादा शिकार का विश्व रिकॉर्ड – 91 (57 कैच एवं 34 स्टंपिंग)।

  • सबसे ज्यादा 255 टी-20 मैचों में कप्तानी का रिकॉर्ड और 150 टी20 मैच जीतने का रिकॉर्ड बनाने वाले वर्ल्ड के एकमात्र कप्तान
    भारत ने उनकी कप्तानी में 2010 और 2016 का एशिया कप भी जीता था ।

  • धोनी को वर्ष 2007 के सर्वोच्च खेल सम्मान ‘राजीव गांधी खेल-रत्न पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया है।

दोस्तों,मुझे उम्मीद हैं कि आप को (Ms Dhoni  Success Story In Hindi) अच्छा लगा होगा और इस पोस्ट से आप को धोनी के जीवन के बारे में बहुत कुछ पता चला होगा।अगर आप को इस पोस्ट में किसी प्रकार की कोई गलती य समस्या नज़र आयी है तो कमेंट करके हमे जरूर बताये हम उसे सुधार करेंगे।

धन्यवाद !

Leave a Comment

Your email address will not be published.